crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase वॉलेट और एक्सचेंज में क्या फर्क है

 

crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase wallet vs exchange hindi

crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase wallet vs exchange hindi

पूरी दुनिया में अब तक कुल मिलाके  १८००० के आस पास विभिन्न क्रिप्टो बन चुके है यानि दुनिया के अलग अलग देशो में बनी क्रिप्टो की समजो की पूरी भरमार है। देश में निवेश के लिए लोगों के बिच क्रिप्टो एक लोकप्रिय विकल्प बनकर उभर रहा है। तो ऐसे मैं क्रिप्टो में निवेश करने के लिए क्रिप्टो वॉलेट और क्रिप्टो एक्सचेंज के बारे में जानना जरूरी है। मित्रों आज इस वीडियो में जानेंगे वॉलेट और एक्सचेंज में क्या फर्क है।  क्रिप्टो वॉलेट कौनसा युस करें। क्रिप्टो एक्सचेंज कौनसा यूज़ करें।  क्रिप्टो वॉलेट को कौनसे एक्सचेंज से connect करें ? क्रिप्टो वॉलेट का उपयोग कब करें और क्रिप्टो एक्सचेंज का उपयोग कब करें ?

crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase wallet vs exchange hindi


क्रिप्टो वॉलेट और क्रिप्टो एक्सचेंज के बारे में बेसिक जानकारी लेने के लिए इस मेटामित्र यू ट्यूब चैनल के क्रिप्टोपुराण प्लेलिस्ट में दूसरा और तीसरा वीडियो देख सकते हैं। 

What is Crypto Wallet       what is Crypto Exchange

देश में क्रिप्टो शब्द का उपयोग बढ़ता जा रहा हे।  इंटरनेट पर हर रोज कहीं न कहीं क्रिप्टो कोइन के बारे में सुनने को मिलता है। और आए दिन कोई न कोई मोबाईल एप या क्रिप्टो एक्सचेंज एप्लिकेशन डाऊनलोड करने का विज्ञापन भी देखने को मिलता है। और लोग ऐसी एड देखकर या किसी के कहने पर डाऊनलोड भी करते हैं और क्रिप्टो कोइन में लेन देन शुरू कर देते हैं। पर शायद अभी तक बहोत लोगों को क्रिप्टो कोइन्स को कहाँ रखना चाहिए इसके बारे में कम जानकारी होती है। उनको ये भी पता नहीं होता है की क्रिप्टो वॉलेट किसे कहते हैं और क्रिप्टो एक्सचेंज किसे कहते हैं। और ये दोनों मैं क्या फर्क होता है। ये दोनों काम कैसे करते हैं। तो चलिए इसके बारे में आसान भाषा में और डिटेल में जानते है।

crypto wallet vs crypto exchange | Difference between crypto wallet and crypto exchange

क्रिप्टो वॉलेट आपके निजी बटुए जैसा है। जिस पर सिर्फ आपका पूरा कंट्रोल होता है। इसमें आप क्रिप्टो को लम्बे अरसे तक रख सकते हैं। दूसरी ओर क्रिप्टो एक्सचेंज एक प्राइवेट कंपनि भी हो सकती है और वहां भी क्रिप्टो को रखा जाता है। पर आपके क्रिप्टो का कंट्रोल उनके पास होता है।

क्रिप्टो वॉलेट कोई बैंक के साथ कनेक्टेड नहीं होता है इसलिए क्रिप्टो वॉलेट में क्रिप्टो को डॉलर या रूपये में  कन्वर्ट नहीं कर सकते। पर क्रिप्टो एक्सचेंज को बैंक के साथ कनेक्ट कर सकते हैं , वहां रखे हुए क्रिप्टो की वेल्यू रूपये में या डॉलर में कितनी होती है यह देख सकते हैं।

crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase वॉलेट और एक्सचेंज में क्या फर्क है


क्रिप्टो वॉलेट में आपको अपना क्रिप्टो खुद मैनेज करना पड़ता है यानी किसी को क्रिप्टो वॉलेट में से देना हे तो आपको उस व्यक्ति के वॉलेट की पब्लिक की यानी वॉलेट एड्रेस लेना पड़ेगा। और खुद ट्रांसफर करना पड़ेगा।   पर क्रिप्टो एक्सचेंज में आपके क्रिप्टो का लेन देन का मैनेजमेंट कम्पनी करती है।

अब जानते हैं चार्जिस के बारे में। क्रिप्टो वॉलेट में आपको गैस फीस का चार्ज लगता है और क्रिप्टो एक्सचेंज पर उनके ब्रोकरेज कमीशन चार्जिस लगते हैं। अलग अलग क्रिप्टो एक्सचेंज के अलग अलग चार्जिस होते हैं कुछ एक्सचेंज में छुपे हुए एक्स्ट्रा चार्जिस भी होते हैं।

खास बात ये हे की क्रिप्टो वॉलेट में आपको कोई kyc नहीं देना पड़ता पर क्रिप्टो एक्सचेंज पर आपको आधार कार्ड, मोबाईल नंबर और ईमेल एड्रेस जैसे kyc देने पडते हैं। और मोबाईल-ओटीपी या ईमेल-ओटीपी से वेरिफाय करना पड़ता है।

क्रिप्टो वॉलेट की प्राइवेट की यानी पासवर्ड आपको संभालकर रखना होता हे अगर आपने प्राइवेट की खो दी तो सबकुछ खो देंगे। कहीं से कोई मदद नहीं मिल सकती। पर सेंट्रलाइज़्ड क्रिप्टो एक्सचेंज में ऐसा कुछ हुआ तो आपको मदद मिल सकती है।

क्रिप्टो वॉलेट में आपका क्रिप्टो ज्यादा सेफ रहता है और क्रिप्टो एक्सचेंज पर वॉलेट के मुकाबले क्रिप्टो को रखना कम सेफ है। सेंट्रलाइज़्ड एक्सचेंज पर किसी गवर्मेंट ने रोक लगा देने का खतरा या उसका सर्वर हैक हो जाने का भय रहता है। पर क्रिप्टो वॉलेट में ऐसा कुछ नहीं हो सकता।

एक्सचेंज मोबाईल में और लेपटॉप दोनों में काम करता है और इसमें फोन-ओटीपी , ईमेल-ओटीपी और गूगल ऑथेंटिकेटर के ज़रिए  एक्स्ट्रा सिक्युरिटी लेयर बना सकते हैं। पर वॉलेट में ऐसा अभी कुछ जानने में नहीं आया है। हालाकि अब  वॉलेट भी मोबाईल और लेपटॉप दोनों से ऑपरेट हो सके ऐसा डेवलपमेंट होने लगा है।  

दोस्तों कोई भी क्रिप्टो कोइन पहले ब्लॉकचेन पर आते हैं और बाद में किसी एक्सचेंज पर लिस्टेड होते हैं ताकि लोग उसको खरीद सके। कोई भी एक्सचेंज पर सारे कोइन्स लिस्टेड नहीं होते हैं। पर अगर आपको अगर वो क्रिप्टो कोइन लेना हे तो आप उसे वॉलेट में अपने क्रिप्टो से उस नए क्रिप्टो को स्वैप करके यानी कन्वर्ट करके रख सकते हो।

इसके आलावा वॉलेट में और एक्सचेंज में अलग अलग कंपनिया अलग अलग फीचर्स देती हैं। आइए कुछ वॉलेट्स के नए useful Features और Tools जानते हैं। वीडियो बहोत लम्बा ना हो जाए इसलिए अभी सिर्फ बेसिक जानकारी ही प्राप्त करेंगे।

ये हे Metamask वॉलेट जो की बिलकुल फ्री है और ओपन सोर्स है। 

Metamask Decentralized Crypto Wallet

Metamask Decentralized Crypto Wallet से NFT मार्केटप्लेस पर लॉगिन किया जा सकता हे। आप वहां लॉगिन कर के आपकी NFT अपलोड कर सकते हैं और वॉलेट में साइन करके सेल के लिए रख सकते हैं। ये मेटमास्क क्रिप्टो वॉलेट पर आप बिटकॉइन नहीं रख सकते क्यूंकि ये ERC-20, ERC-721 standard के tokens को स्पोर्ट करता है। पर हाँ बिटकॉइन को ईथरियम में स्वेप करके यहाँ इम्पोर्ट करके रख सकते हैं।  यहाँ पर क्रिप्टो buy और सेल करने की सुविधा भी है।  मेटमास्क वॉलेट पर आप एक से ज्यादा एकाउन्ट बना सकते हो और डिलीट भी कर सकते हो।  मेटमास्क के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए उसकी वेबसाइट पर FAQs सेक्शन भी दिया है।

what is trust wallet explanation in hindi | ट्रस्टवोलेट क्या है? #trustwallet



अब जानते हैं trust wallet के बारे मैं। यहाँ वीसाकार्ड और मास्टरकार्ड  से क्रिप्टो को डायरेक्ट खरीद सकते हैं। 

ट्रस्ट वॉलेट के मेईन फीचर्स -  Main features of Trust wallet in hindi

  •  इससे आप पांच मिनट में बिटकॉइन खरीद सकते हो | 
  • अपने वॉलेट में रखे हुए क्रिप्टो पर ब्याज भी मिलता है। 
  • अपनी NFT आप वॉलेट में से देख सकते हो।  
  • किसी भी डेसेंट्रलाइज़्ड एक्सचेंज को कनेक्ट करके क्रिप्टो को स्वेप कर सकते हो 
  • यहाँ आपको क्रिप्टो की प्राइस का ग्राफ भी देखनेको मिलता है। 
  • इसमें ब्राउज़र भी हे जिसके जरिए आप Decentralised App Dapp का उपयोग भी कर सकते हो।  

ये सारी फेसिलिटी आप को एक ही वॉलेट में मिल जाती है। 

How To Create Multi Wallets in Trust Wallet Mobile App | TrustWallet

ट्रस्ट वॉलेट में आप एक साथ एक से ज्यादा वॉलेट बना सकते हैं। video link जैसे किसी एक इन्सान या सेन्डर के साथ क्रिप्टो की  लेन देन करने के लिए एक वॉलेट। और अपनी नफ्त Buy-Sell करने के लिए एक अलग वॉलेट।  हर ट्रस्ट वॉलेट में आप एक से ज्यादा क्रिप्टो कोइन स्टोर कर सकते हैं।



what is coinbase wallet explained in hindi | Difference between coinbase wallet and coinbase

मेटामित्र चैनल के पिछले वीडियो में हमने कोइनबेज़ में एकाउन्ट बनाना सीखा था। और ये भी जाना था की कोइनबेज़ एक वॉलेट भी हे और एक्सचेंज भी है।  आइए देखते हैं इन दो नो में क्या फर्क है। 

Difference between coinbase wallet and coinbase


आइए अब कॉइनबेस के बारे में जानते हैं। मेटामित्र चैनल के पिछले वीडियो में, हमने सीखा कि कॉइनबेस में अकाउंट कैसे बनाया जाता है। और यह भी जाना के कॉइनबेस एक वॉलेट के साथ-साथ एक एक्सचेंज भी है। आइए देखें कि इन दोनों नंबरों में क्या अंतर है।  ये हे कॉइनबेस वॉलेट का लोगो और ये हे कॉइनबेस एक्सचेंज एप का लोगो।  


कम्पनी का नाम एक हैं पर दोनों ही अलग प्रोडक्ट है। दोनों में अलग लॉगिन प्रोसेस है। कॉइनबेस वॉलेट का इंटरफेज यानी स्क्रीन एकदम इज़ी है। ये नॉन-कस्टोडियल वॉलेट हे और आपका पूरा कंट्रोल इस पर रहता है, इसमें क्रिप्टो स्टोर कर सकते हैं, और प्राइवेट की से सेफ और सिक्योर रख सकते हैं।  इसमें ट्रस्ट वॉलेट की तरह एक से ज्यादा वॉलेट नहीं बना सकते परन्तु कॉइनबेस वॉलेट आपको वोल्ट की फेसिलिटी देता है यानी वॉलेट मैं एक तिजोरी बनाकर देता है। 



आप अपने किसी विश्वासु व्यक्तिको भी इस वोल्ट यानी तिजोरी का पार्टनर बना सकते हो। ये वॉलेट में वाल्ट की फेसिलिटी कोई एक कम्पनी के पार्टनर्स या फिर फेमिली में हस्बैंड वाइफ यूज़ कर सकते है।  वाल्ट मैं बाहर से डायरेक्ट क्रिप्टो रिसीव कर सकते हैं। पर वाल्ट में से क्रिप्टो निकालने के लिए सब पार्टनर्स की मंजूरी यानि ऍप्रूवल मांगता है।  अगर सबका अप्रूवल नहीं मिलता तो ट्रांसेक्शन २४ घंटे मैं केंसल हो जाता है। कॉइनबेस वॉलेट डिसेंट्रलाइज़्ड हे पर कॉइनबेस एक्सचेंज सेंट्रलाइज़्ड है। कॉइनबेस वॉलेट मेंसे कॉइनबेस एक्सचेंज पर और एक्सचेंज मेंसे वॉलेट में आसानी से क्रिप्टो send – Receive किये जा सकते हैं।

वॉलेट और एक्सचेंज का डिफ़रेंस जानने के बाद अब ये प्रश्न है की क्रिप्टो वॉलेट कौनसा युस करें? क्रिप्टो एक्सचेंज कौनसा यूज़ करें? और क्रिप्टो वॉलेट को कौनसे एक्सचेंज से connect करें ?

which crypto wallet to use | which crypto exchange to use

तो इसका जवाब व्यक्ति की स्किल और जरुरत के हिसाब से अलग अलग हो सकता है।  यहाँ कुछ कॉम्बिनेशन दिए हैं।  जैसे की आप एक आर्टिस्ट हैं और अपनी NFT ओपन सी पर बेचना चाहते हैं तो मेटमास्क वॉलेट पॉप्युलर है।  एक से ज्यादा NFT मार्केटप्लेस पर अपनी अलग अलग NFT बेचना चाहते हैं तो कॉइनबेस और ट्रस्ट वॉलेट का यूज़ कर सकते हैं।

crypto wallet vs Exchange hindi | coinbase वॉलेट और एक्सचेंज में क्या फर्क है


अगर आप क्रिप्टो में छोटा मोटा इन्वेस्ट करके सीखना चाहते हैं तो कॉइनबेस वॉलेट के साथ - कॉइनबेस एक्सचेंज का कॉम्बिनेशन   और  ट्रस्ट वॉलेट के साथ - बिनान्स एक्सचेंज का कॉम्बिनेष ट्राय करके आसानी से सिख सकते हैं।

Trust wallet with binance exchange


अगर आप सिख कर क्रिप्टो होल्डिंग्स को बढ़ाना चाहते हैं  तो डिसेंट्रलाइज़्ड वॉलेट के साथ किसी डिसेंट्रलाइज़्ड एक्सचेंज को कनेक्ट करके उसका USE कर सकते हैं . ताकि कोई गवर्मेंट ने किसी भी सेंट्रलाइज़्ड एक्सचेंज पर पाबंदी लगाई तो आपका क्रिप्टो सेफ रहे सकें।

decentralized crypto exchange list | list of Dex


बड़े बड़े सेलेब्रिटी या बिसनेजमेन करोड़ों की क्रिप्टो होल्डिंग को ज्यादा समय तक SAFE और SECURE रखने के लिए COLD WALLET यानि HARDWARE WALLET का USE करते हैं।


नए इन्वेस्टर्स 10-20 हजार से लेकर पचास 50 हजार तक की क्रिप्टो करंसी को सेण्टलाइज़्ड एक्सचेंज पर ही रखना पसंद करते हैं। ये इण्डिया में पॉप्युलर कुछ एक्सचेंज की लिस्ट हैं।  

You can open account using below links. (Note: I will earn commission if you signup using this link)

coinbase |   BINANCE |    CRYPTO.com   |    WazirX  

List of Indian Crypto Exchanges, indian crypto exchange list

सब के ब्रोकरेज चारजिस और हिडन चार्जिस अलग अलग हैं। सबका कम्पेरिज़न जानना चाहते हैं तो कॉमेंट करें ताकि इसके ऊपर एक अलग से लेटेस्ट चार्जिस का वीडियो बना सकें।

अब जानते हैं क्रिप्टो वॉलेट का उपयोग कब करें और क्रिप्टो एक्सचेंज का उपयोग कब करें ?

when to use crypto wallet | when to use crypto exchange

क्रिप्टो खरीद कर लम्बे अरसे तक होल्ड करने वाले लोग किसी भी एक्सचेंज से खरीदकर उसे डिसेंट्रलाइज़्ड वॉलेट में ट्रांसफर कर देते हैं और वॉलेट में लम्बे समय तक ये स्टेकिंग के बदले इंटरेस्ट भी मिलता है। पर एक्सचेंज पर रखने से इंटरेस्ट नहीं मिलता है।

जो लोग रेगुलरली क्रिप्टो में ट्रेडिंग करना चाहते हैं  वो एक्सचेंज का उपयोग ज्यादा करते हैं और मुनाफा वॉलेट में ट्रांसफर कर देते हैं।

हाला की हम ये बता दें की क्रिप्टो में ट्रेडिंग या नफ्त में ट्रेडिंग बहुत जोख्मी  है और मार्किट भी ज्यादा वोलेटाइल रहता है।  इस लिए अपना पूरा रिसर्च करके सोच समज कर ही निर्णय करें।  अपनी केल्क्युलेशन में ऐसे क्रिप्टो के ट्र्रांसएक्शन और प्रॉफिट पर लगनेवाले टेक्स को भी ध्यान में रखें।





DISCLAIMER: Please be advised that the content of my media is my personal opinion and is intended FOR GENERAL INFORMATION PURPOSES ONLY, not financial advice. Nothing herein shall be construed to be financial, legal or tax advice. The content of this video is solely the opinions of the speaker who is not a licensed financial advisor or registered investment advisor. Purchasing cryptocurrencies poses considerable risk of loss. The speaker will not be held responsible for any losses or gains. Always do your own research and advise with a professional before making your own investments.