Pi Network New Update KYC latest news 2022 May 10


Pi Network New Update KYC latest news


दोस्तों पाई नेटवर्क तेजी से आगे बढ़ रहा है। 
इसका लास्ट स्टेज मेइननेट माइग्रेशन आसानी से हो सके इसके लिए सबका KYC सरलतासे होना अनिवार्य है। और वैसे भी तेंतीस मिलियन लोगों का KYC करना वो भी कोई आसान काम नहीं है।  कई लोगों ने बिच में ही पाई नेटवर्क को छोड़ दिया है क्यूंकि पाई नेटवर्क से kyc के बारे मैं कोई ऑफिसियल मेसेज या न्यूज नहीं मिल रहे थे। 

पर अब १० वी मई २०२२ को इसके बारे में एक अपडेट आया हे जो की पाई नेटवर्क की मोबाईल एप में मुख्य स्क्रीन पर देखा जा रहा है।  यहां पाई नेटवर्क की कोर टीम यानि जो मुख्य मेंबर हैं इन्होने  बताया है की हे पायनियर्स, हमने अपने केवाईसी समाधान में सुधार और विस्तार करना जारी रखा है। 

The KYC slot rollout has been steadily scaling since its release on March 14, Pi Day. Since then, the focus has been on scaling the system and bootstrapping the crowd validation network. Below, we delineate the KYC funnel that the network needs to go through to scale, and give you a window into some important recent progress as well as what’s next.

kyc की प्रोसेस हो सके इतनी सरल बनाने का प्रयास है, और ये सबके लिए सुलभ होगा।  दूसरे ब्लॉकचेन की तरह इसमें कोई फीस नहीं रखी गई है।  ये एकदम

सटीक  और भरोसेमंद  है। इसमें  ऐसा कुछ हे जिसे किसी अन्य ब्लॉकचेन ने लाखों उपयोगकर्ताओं के लिए अबतक करने का प्रयास नहीं किया है। यानी की ये लोग एक इतिहास बना रहे हैं। और ये भी कहा गया है की केवाईसी प्रक्रिया में मदद करने के लिए, पाई ब्राउज़र को डाउनलोड करें।

इसमें आपको पाई एप में ही KYC करने का इन्विटेशन मिलेगा।  और आमंत्रण प्राप्त करने के बाद आप केवाईसी प्रोसेस कर सकेंगे। तो भाई ये हमें सही लग रहा है क्यों की एक तो ये किसी भी प्रकार की फीस नहीं मांग रहे हैं।  और दूसरा की ३३ मिलियन लोगों का kYC करना कोई आसान काम नहीं है।  ये एक मूवी देखने जैसा है अगर शो हाउस फूल हो जाए तो हमें भी दूसरे शो की टिकट लेनी पड़ती है। पाई नेटवर्क में भी लोगों ने धीरज से काम लिया है, इतना इंतज़ार करते हुए अब इस स्टेज पर आने के बाद अगर थोड़ा वक्त लगता है तो कोई बात नहीं , और हां पाई टीम सबकुछ सही सही और आसानी से हो सके इतनी महेनत कर रही है तो लोगों ने भी इसका साथ देकर थोड़ा और सब्र करना सिख लिया है। 

इसमें इन्होंने ये लोगों को ये अपील की हे जिसका kyc पास हो जाए वो लोग वेलिडेटर बनें यानी दूसरों का किया हुआ kyc सही हे या नहीं उसके लिए पाई नेटवर्क को स्पोर्ट करें।  इसके लिए यानी वेलिडेटर बनने के लिए Pi नेटवर्क में apply करें।  

Pi network KYC funnel

Basically, proportional Pi KYC throughput, the organization needs proportional each progression of the organization KYC pipe, what separates into three primary advances portrayed beneath. A portion of the scaling relies upon the framework and calculation improvement which the Core Team has been buckling down on, while different parts of scaling depend on the interest by Pioneers, to be specific, finishing the KYC application process and applying to become Validators.

Step 1. Upon invitation, Pioneers download the Pi Browser to access the Pi KYC app.

Step 2. Pioneers complete and submit the KYC application.

Step 3. The KYC system, using machine learning algorithms and human Validators, processes the application.

The Core Team’s focus has been primarily on scaling Step 3 and reducing friction to improve the user experience in Step 2. At the same time, Pioneers can help with KYC by preparing for Step 1 by downloading the Pi Browser, and once their KYC gets approved, by applying to become a Validator (Step 3).

सबसे पहले है नेटवर्क kyc फनेल,  इसमें कहा गया हे की  पाई नेटवर्क में जुड़े हुए सभी लोगों का सही सही kyc करने के लिए इन्होने इसको तीन चरण में विभाजित किया है।  ये काम ठीक तरह से हो सके इसके लिए पाई नेटवर्क की टीम इसकी कम्प्यूटर सिस्टम पर और उसके सॉफ्टवेर प्रोग्राम की गलतियों को सुधारने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है।  मशीन तो kyc कर ही रहा हे साथ साथ पायोनियर्स यानि की इसमें जुड़े हुए लोगों का स्पोर्ट भी चाहिए। इसलिए जो लोग kyc कम्प्लेट कर चुके हैं वो लोग वेलिडेटर बनके स्पोर्ट करेंगे तो सबका kyc जल्दी से हो जाएगा। आसान भाषा में समझें तो मशीन के साथ साथ इंसानों को भी मिलजुल कर ये kyc का काम फटाफट पूरा करने की उम्मीद रखी गई है। 

 ये शायद इस लिए भी हो सकता है की इसमें इंसानों के साथ साथ बहोत सारे डमी और डुप्लीकेट एकाउंट हो सकते हैं , कुछ रोबोट जैसे प्रोग्राम भी हो सकते हैं जो इस एप्लिकेशन में गलत तरीके से पाई कोइन बना रहे हैं।  कुछ देशो में को एक व्यक्ति के एक से ज्यादा एकाउंट भी हो सकते हैं।  एक ही इंसान के एक से ज्यादा फोन में एकाउंट हो सकते हैं।  इन सबको इस kyc फनेल के जरिए बाहर निकाल फेंक देना है। ताकि ये सिर्फ इंसानों का नेटवर्क बन सके और आनेवाली अर्थव्यवस्था को बेहतर बना सके। 

Pi network Scaling Step 1

There are two variables here: Firstly, the Core Team is randomly inviting a number of Pioneers each day to KYC. Second, these Pioneers decide if they want to accept the invitation at that moment and access the KYC app to submit their application. Increasing the number of invitations to enter the funnel is technically trivial in this step – we could simply invite everyone. But before we do that, we need to make sure that the large volume of invitations will not create clogs that actually impede the speed of bootstrapping and overall system scaling, so the following steps of the funnel are not blocked. That's why the Core Team is imposing restrictions on this step. Before increasing the invitations, the Core Team has been focusing on increasing the throughputs of the following steps in reverse order, i.e. removing bottlenecks from Step 3, before Step 2 and before we remove the restrictions imposed on Step 1.

Pi Network Scaling Step 2

As an example of bottlenecks on Step 2, many Pioneers had issues with the liveness check during the submission of their KYC application. This liveness test is a critical feature of the KYC application meant to establish that a Pi account holder is a real human being. To this end, Step 2 requires KYC applicants to make certain facial expressions based on the instructions, which are validated by machine and human Validators. However, many types of phone models, primarily older ones, were not always able to capture these expressions, so Pioneers were often unable to complete and submit their KYC applications. Recent user experience improvements and server-side algorithms have significantly reduced the friction for Pioneers to complete their KYC application, including the liveness check.

More iterative improvements will be made generally on Step 2 based on the continual feedback from the process.

Pi Network Scaling Step 3

Scaling Step 3 is a major endeavor which involves improving the system and bootstrapping human validations geographically.

तीन स्टेप में से पहला  स्टेप ये है की KYC का इन्वीटेशन मिलने के बाद पायोनियर्स पाई का ब्राउसर इंस्टॉल करें।  अगर आपने पहले से ब्राउज़र इंस्टॉल कर दिया है तो अच्छी बात है।  आप को kyc करने के आमंत्रण मिलने का सिर्फ इंतज़ार ही करना है।  और बहोत जल्द ये आने वाला है। 

दूसरा स्टेप ये है की जिनको पाई नेटवर्क की मोबाईल एप में  ये kyc का इन्विटेशन मिला है वो लोग अच्छी तरह ठीक से सही सही kyc कम्प्लीट करें। 

और तीसरा स्टेप ये है की जिन्होंने kyc कम्प्लीट कर दिया है वो वैलिडेटर बनें और जो मशीन लर्निंग अल्गोरीधम यानि कम्प्यूटर प्रोग्राम को साथ देकर दूसरों का kyc सही तरीके से हो सके इसपर भी ध्यान दें। ताकि सबकुछ ठीक तरीके से जल्दी हो सके। 

Pi Network System improvements

The Core Team has made significant system improvements in scaling machine automation. We have added, improved and scaled security measures such as traceable watermarks to images shown to Validators, Validator training processes, and queues of tasks for human Validators. Maintaining randomness in queuing work for Validators is a conscious system design choice to prevent potential Validator gamesmanship and collusion. Another important choice is to break up pieces of validation work for each KYC application and spread them to multiple Validators as a privacy protection measure. These two choices, however, create a challenge in getting a KYC application fully processed, adding to the application backlog. Here, optimizing the task queuing algorithm is key. It has been largely improved to help scale application processing, thereby reducing the time it takes for one application to get fully processed, while achieving the two goals of KYC integrity and privacy.

We are happy to announce that, for the past week, Step 3 has stopped bottlenecking the KYC funnel and is now able to process more KYC applications than what is passing through from previous steps.

Note that the system is still producing a relatively large ratio of false rejections due to our highly conservative criteria. So for these false rejections, we withhold announcing KYC results to these Pioneers while we continually tune the processes and reprocess their applications to have fewer false rejections and get them safely approved.

अब आगे इन्होने ये भी बताया है की पाई नेटवर्क के KYC में बहुत ही स्ट्रिक्ट मापदंड रखे हैं जिसकी वजह से जो सही में इंसान हैं वे लोग भी KYC में पास नहीं हुए हैं।  इसके लिए अब ये सिस्टम बनाई हे की लोगों का KYC करेंगे पर पास हैं या नहीं इसका रिज़ल्ट नहीं देंगे।  उन्हें सुरक्षित रूप से KYC पास करने के लिए शायद दूसरी बार दूसरे तरीके से भी KYC प्रोसेस करेंगे। 

 हालांकि यह भी जानकारी के लिए हैं की दुनिया में एक तो अलग अलग भाषाएँ हैं और हर कंट्री का आईडी कार्ड अलग अलग हैं।  आप समज सकते हैं इसके लिए

सही और ठीक तरीके से kyc करने के लिए सिस्टम को तैयार करने के साथ साथ इनको सही वेलिडेटर्स का सपोर्ट भी चाहिए।  ताकि सही में एक सच्चा सिक्योरिटी सर्कल बन सकें। तो इसके लिए काम चालू है और अभी तक पाई केवाईसी सिस्टम ने दुनिया के ७७ देशों में वेलिडेटर्स की नियुक्ति कर दी है। 

तो बहोत ही जल्द आप को भी पाई नेटवर्क एप में इन्विटेशन मिल सकता है।  जिन दर्शकों ने पाई नेटवर्क एप अभी तक डाऊनलोड नहीं की हे वे लोग इस मेटा मित्र चैनल की पाई नेटवर्क सीरीज़ के वीडियो शुरू से देख सकते हैं और जान सकते हैं की कैसे फ्री में सिर्फ मोबाईल से इस नई क्रिप्टो करंसी कमा सकते हैं। 

क्रिप्टोक्यूरेंसी बाजार में Pi कॉइन के लॉन्च होने के बाद धूम मचाने की उम्मीद है।

Bootstrapping Validation Geographically

Because of the variety of languages and ID types in the world, KYC validation is a localized process that leverages the knowledge and familiarity of local KYC Validators. Therefore, the KYC system needs to be first bootstrapped in every country or region. In other words, every country or region needs enough Validators to approve the KYC applications of other Pioneers, which brings in more potential Validators to the KYC system, thus setting off a virtuous cycle.

To date, the Pi KYC system has bootstrapped the human validation workforce in 77 countries and regions — areas that represent about 80% of the global population. Since we aim to cover every single region permissible by law, we are continuously stepping up our efforts to bootstrap more places. One improvement we have made — recognizing the relative universality in liveness and selfie checks — is that the system widens the eligibility of Validators for these checks to Pioneers outside their country or region, while still restricting the verification of the authenticity of the applicant’s identity card to the Validator’s country or region. As another example, Core team members and Chat Moderators are tirelessly validating KYC applications from un-bootstrapped places until enough Validators from those places emerge. These choices have helped the system cover those countries or regions that are still bootstrapping, and consequently, we see a constant increase in the number of bootstrapped countries or regions.

What’s Next?

In addition to improving user experience and bootstrapping validation, the network will, in parallel, continue to improve its validation algorithm so that more work can be automated by machines, reducing reliance on human Validators. This will help scale the KYC solution to Pioneers around the world regardless of their region or background.

At the same time, Pioneers can take two important steps to expedite the network’s progress of KYC verification and the subsequent Mainnet migration.

First, more KYC Validators are needed! Increasing the number of successful KYC validations now primarily depends on how many human Validators there are in each local community. So if you are already KYC-verified, we encourage you to apply to become a Validator. More KYC’ed Pioneers increases the pool for potential Validators. Also remember that Validators will receive Pi pooled from successful KYC applicants for their work :)

Second, remember to download the Pi Browser! The Pi KYC app can only be found on the Pi Browser, the platform for the burgeoning utilities-based Pi ecosystem. Once Pioneers receive an in-app notification that their KYC slot is open, they will be led to the KYC app within the Pi Browser. You should be ready when it’s your time!

The network is continually improving the KYC infrastructure and clearing technical bottlenecks along the way. This has resulted in significant increases in the network’s ability to process KYC applications, and with Pioneers’ enthusiastic participation, the good work will continue. Stay tuned for updates.


Pi NETWORK DOWNLOAD link :  https://minepi.com/PatelKetankumar

Pi TRUSTED Invitation code : patelketankumar

some Hashtags : #pinetwork #pinetworkkyc #PiNetworkUpdate #pinetworkindia #mainnetgathering #pinetworkfan #pinetworkupdates #PiNetwork #pinetworknews #pinetworkpage #pinetworkmemes #pinetworkminer #PiNetworkGlobal  #picoin #picoins #picoinprice #picointheday #pinetworkupdate #pionMainnet #metamitra #pinetworkkyc #metamitra #pinetworknewupdate